मोहब्बत सैड स्टेटस इन हिंदी २ लाइन ▷ Love Sad status in Hindi 2 line

मोहब्बत सैड स्टेटस इन हिंदी २ लाइन ▷ Love Sad status in Hindi 2 line

मोहब्बत सैड स्टेटस इन हिंदी २ लाइन ▷ Love Sad status in Hindi 2 line : 

दिन गुजर जाते हैं, और हसरते रह जाती हैं, यार हो जाते हैं जुदा, और आहटे रह जाती हैं,

उन्हें क्या पता जो कहते है हर वक़्त रोया ना करो, मैं कैसे समझाऊं कुछ दर्द सहने के काबिल नही होते.

नाकामयाब मोहब्बत ही सच्ची होती है, कामयाब होने के बाद मोहब्बत नहीं बचती.

शायरों की महफ़िलों में हम इसलिए भी जाते हैं, हम से बिछड़ कर शायद वो भी शायर हो गयी हो.


ना मुस्कुराने को जी चाहता है ना आँसू बहाने को जी चाहता है लिखूँ तो क्या लिखूँ तेरी याद में बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है

उसने कहा प्यार एक दर्द है हमने कहा दर्द कबूल है उसने कहा दर्द के साथ जी न पाओगे हमने कहा तेरे प्यार में मरना कबूल है

अफ़सोस होता है उस पल जब अपनी पसंद कोई और चुरा लेता है ख्वाब हम देखते रहते हैं और हकीकत कोई और बना लेता है

कुछ लोग कहते हैं कि बदल गया हूँ मैं उनको ये नहीं पता कि संभल गया हूँ मैं उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है पर अब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मैं

बारिश में भीगने के ज़माने गुजर गए, वो शख्स मेरे शौक चुरा कर चला गया

अधूरी हसरतों का आज भी इलज़ाम है तुम पर, अगर तुम चाहते तो ये मोहब्बत ख़त्म ना होती।

रोने की सज़ा ना रुलाने की सज़ा है, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है, हस्ते है तो आँखो से निकल आते है आँसू, ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है!!

सभी को सब कुछ नही मिलता, नदी की हर लहर को साहिल नही मिलता, यह दिल वालो की दुनिया हैं दोस्त, किसी से दिल न्ही मिलता तो कोई दिल से नहीं मिलता!

वो खुश है पर शायद हम से नहीं वो नाराज़ है पर शायद हम से नहीं वो कहता है उसके दिल में मोहब्बत नहीं मोहब्बत तो है पर शायद हमसे नहीं

ज़िंदगी का हर ज़ख़्म उसकी मेहरबानी है, मेरी ज़िंदगी तो एक अधूरी कहानी है, मिटा देता हर दर्द को मगर, ये दर्द ही तो उसकी आखरी निशानी हैं!!

जिसने हक़ दिया मुझे मुस्कुराने का उसका शौक है मुझे रुलाने का जो लहरों से लड़कर लाया था किनारों पर उसे इंतज़ार है अब मेरे डूब जाने का

किसी की याद को दिल में बसाकर रोए किसी की तस्वीर को सीने से लगाकर  रोए जो वादा किया था हमने किसी से हम उस वादे को निभाकर रोए

तेरी मोहब्बत को तो पलकों पर सजायेंगे; मर कर भी हर रस्म हम निभायेंगे; देने को तो कुछ भी नहीं है मेरे पास; मगर तेरी ख़ुशी मांगने हम खुदा तक भी जायेंगे

दर्द ही सही, मेरे इश्क का इनाम तो आया खाली ही सही, हाथों में जाम तो आया मैं हूँ बेवफा, सबको बताया उसने यूँ ही सही, लबों पर उसके मेरा नाम तो आया

मुझे ऐसा दर्द मिला जिसकी कोई दवा नहीं फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं और कितने आँसू बहाऊँ उसके लिए जिसे खुदा ने नसीब में लिखा ही नहीं

आँसुओं तले मेरे सारे अरमान बह गए जिनसे उम्मीद लगाए थे वही बेवफा हो गए थी हमें जिन चिरागों से उजाले की चाह वो चिराग न जाने किन अंधेरों में खो गए

मिल गया था जो मुकद्दर वो खो के निकला हूँ, मैं वो लम्हा हूँ हर बार रो के निकला हूँ, मुझे राहे दुनिया में अब कोई भी दुशवारी नहीं, मै तेरे खंजर के वार से हो के गुजरा हूँ.

मेरी कोशिश कभी कामयाब ना हो सकी, न तुझे पाने की न तुझे भुलाने की।

पत्थर समझ कर पाँव से ठोकर लगा दी, अफसोस तेरी आँख ने परखा नहीं मुझे, क्या क्या उमीदें बांध कर आया था सामने, उसने तो आँख भर के भी देखा नहीं मुझे।

उदास कर देती है हर रोज ये शाम मुझे, लगता है तू भूल रहा है मुझे धीर-धीरे।

नादानी की हद है जरा देखो तो उन्हें, मुझे खो कर वो मेरे जैसा ढूढ़ रहे हैं।

अब तुम को भूल जाने की कोशिश करेंगे हम तुम से भी हो सके तो न आना ख़याल में।

अंजाम-ए-वफ़ा ये है जिसने भी मोहब्बत की, मरने की दुआ माँगी जीने की सज़ा पाई।

बिन बात के ही रूठने की आदत है, किसी अपने का साथ पाने की चाहत है, आप खुश रहें, मेरा क्या है, मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।

तेरी मोहब्बत को तो पलकों पर सजायेंगे; मर कर भी हर रस्म हम निभायेंगे; देने को तो कुछ भी नहीं है मेरे पास; मगर तेरी ख़ुशी मांगने हम खुदा तक भी जायेंगे

ख़ामोशी को इख्तियार कर लेना अपने दिल को बेक़रार कर लेना जो लेना हो ज़िन्दगी का असली दर्द तो किसी से बेपनाह प्यार कर लेना

बिखरी किताबें भीगे पलक और ये तन्हाई, कहूँ कैसे कि मिला मोहब्बत में कुछ भी नहीं।

ये तो न कह कि किस्मत की बात है, मेरी बरबादियों में तेरा भी हाथ है।

मुझे ये डर है तेरी आरजू न मिट जाये, बहुत दिनों से तबियत मेरी उदास नहीं।

मुझे ढूँढने की कोशिश अब मत किया कर, तूने रास्ते बदले तो मैंने मंजिल ही बदल दी..

इश्क़ सभी को जीना सिखा देता है, वफ़ा के नाम पर मरना सिखा देता है, इश्क़ नही किया तो करके देखो, ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है!!!

नतीजा एक ही निकला, कि थी किस्मत में नाकामी, कभी कुछ कहके पछताए, कभी चुप रहके पछताए।

क्यों मरते हो बेवफा सनम के लिए,दो गज जमीन नही मिलेगी दफन के लिए, मरना हे तो मरो देश-ए-वतन के लिए, हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए..

टूटा हो दिल तो दुःख होता है, करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है, दर्द का एहसास तो तब होता है, जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है!!!

मोहब्बत की आजतक बस दो ही बातें अधूरी रही, इक मै तुझे बता नही पाया, और दूसरी तूम समझ नही पाये.

तेरे बाद किसी को प्यार से ना देखा हमने, हमें इश्क का शौक है, आवारगी का नही.

मोहब्बत नही तो मुकदमा हि दायर कर दे जालिम, तारीख दर तारीख तेरा दीदार तो होगा.



Related Posts

Post a Comment