उद्योग तथा वाणिज्य (INDUSTRY AND COMMERCE)

  उद्योग तथा वाणिज्य (INDUSTRY AND COMMERCE)

व्यावसायिक क्रियाओ का वर्गीकरण लिखें


व्यावसायिक क्रियाएं मोटे तौर पर दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: (i) उद्योग और (ii) वाणिज्य।



उद्योग क्या है?


व्यावसायिक क्रिया के उत्पादन पक्ष को उद्योग कहते है। यह ऐसी व्यावसायिक क्रिया है जो उत्पादों के बढ़ाने, उत्पादन , प्रक्रियान अथवा निर्माण से संबंधित है।



उद्योग का वर्गीकरण और प्रकार लिखो।


१) प्राथमिक उद्योग: प्राथमिक उद्योग का संबंध प्रकृति की मदद से माल के उत्पादन से है। जैसे कृषि, खेती, वानिकी, मछली पकड़ना, बागवानी करना आदि। 


२) जननिक उद्योग: जननिक उद्योग फिर से उत्पादन और गुणन में लगे पौधों और जानवरों के कुछ मसालों के साथ बिक्री का उद्देश्य हैं। जैसे पौध नर्सरी,पशु पालन, मुर्गी पालन, पशु प्रजनन, आदि। 


३) निष्कर्षण उद्योग: भूमि, वायु अथवा जल से वस्तुओ को निकलना निष्कर्षण उद्योग है। जैसे खुदाईउद्योग, कोयला खनिज, तेल उद्योग, लौह अयस्क, लकड़ी का निष्कर्षण और जंगलों से रबर, आदि।


४) निर्माण उद्योग: निर्माण उद्योग मशीनों तथा मानव शक्ति की सहयता से कच्चे माल को तैयार माल में बदलना। जैसे कपड़ा, रसायन, चीनीउद्योग, कागज उद्योग, आदि


५) सरंचनात्मक उद्योग: सरंचनात्मक उद्योग भवनों, पुलों, सड़कों का निर्माण बांध, नहरें आदि काम करते हैं|


६) सेवा उद्योग: आधुनिक समय में सेवा क्षेत्र एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है राष्ट्र के विकास में भूमिका और इसलिए इसे सेवा उद्योग के रूप में नामित किया गया है।मुख्य उद्योग, जो इसके अंतर्गत आते हैं श्रेणी, होटल उद्योग, पर्यटन शामिल हैं उद्योग, मनोरंजन उद्योग, आदि



वाणिज्य और व्यापार क्या है?


वाणिज्य मुख्य रूप से माल के वितरण से संबंधित है। 'व्यापार' का उपयोग खरीदने और बेचने को दर्शाने के लिए किया जाता है। इसलिए, जो खरीदता है और बेचता एक व्यापारी है।



ई वाणिज्य क्या है? और उसका परिभाषा लिखो।


वस्तुओ तथा सेवाओं का ऑन लाइन में बेचना और खरीदना उसे इ - वाणिज्य अथवा इलेक्ट्रॉनिक वाणिज्य कहते है।



ई वाणिज्य के प्रकार लिखो?

१) B2B (व्यवसाय-से-व्यवसाय): कम्पनियां एक दूसरे के साथ व्यवसाय करते है जैसे उत्पादक , वितरक को विकरी करते है और थोक व्यपारी फुटकर व्यपारी को। 


२) B2C (व्यापार-से-उपभोक्ता): व्यवसाय सूचि पत्र का उपयोग करके प्रतिधिनिक रूप से शॉपिंग कार्ट सॉफ्टवेयर के माध्यम से सामान्य जनता को माल बेचते है। 


३) C2B (उपभोक्ता-से-व्यवसाय): एक उपभोक्ता एक निर्धारित बजट के साथ अपनी परियोजना पोस्ट करता है ऑनलाइन और घंटों के भीतर कंपनियां उपभोक्ता की आवश्यकताओं की समीक्षा करती हैं और परियोजना पर बोली लगता है। उपभोक्ता बोलियों की समीक्षा करता है और कंपनी का चयन करता है जो परियोजना को पूरा करता है ।



ई-वाणिज्य के लाभ क्या है ?


१) विस्तृत चयन : एक अच्छी तरह से विकसित कंप्यूटर नेटवर्किंग की मदद से प्रणाली, व्यावसायिक इकाइयाँ राष्ट्रीय के साथ-साथ वैश्विक स्तर पर भी काम कर सकती हैं। इस प्रकार, ग्राहकों के पास उत्पादों और सेवाओं का व्यापक चयन है। 


२) अच्छी ग्राहक सेवाएं : वस्तुओं और सेवाओं के आपूर्तिकर्ता कर सकते हैं ग्राहकों को सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करते हैं | सेवाएं दो प्रकार का हो सकता है जैसे पूर्व और पश्चात , जैसी उत्पाद के बारे में जानकारी उत्पाद की किस्म तथा उपयोगिता के बारे में ग्राहक से पूछताछ।


३) ग्राहकों की जरूरतों के लिए त्वरित प्रतिक्रिया: ई-वाणिज्य व्यवसाय में खरीद और बिक्री सामान्य प्रक्रिया की तुलना में लेनदेन में कम समय लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उत्पादकों ने कम कटौती की है वितरण चैनल और उत्पादों और सेवाओं को सीधे आपूर्ति की जाती है। 


४) लागत की बचत और कीमत में कमी : ई-वाणिज्य में व्यावसायिक लेनदेन की लगत काफी कम है। माल को प्रदर्शनी का हाल में प्रेदशित करने अथवा गोदाम में स्टॉक रखने की जरुरत नहीं है। व्यवसाय पर आवश्यक कर्मचारियों की संख्या कम है। इस प्रकार, लागत स्वाभाविक रूप से कम हो जाती है। तो ग्राहकों को कम दाम पर सामानमिल सकता है। 


५) बाजार की जानकारी :इंटरनेट के माध्यम से उपलब्ध बाजार की जानकारी तक पहुंच विभिन्न ग्राहक आवश्यकताओं की पहचान करने के लिए व्यावसायिक चिंताओं को सक्षम बनाता है और तदनुसार नए माल और बेहतर सेवाओं का उत्पादन कराती है ।



व्यवसाय क्रिया के किस हिस्से को उद्योग कहते हैं ?

1. सामग्री का निष्कर्षण जैसे कोयला, पेट्रोलियम, कच्ची

2. सामग्री का प्रक्रिया तथा उससे उत्पादन तैयार करना जैसे साबुन ब्रेड मशीन

3. रचनात्मक क्रिया जैसे सड़क घर बनाना


वाणिज्य की विशेषता क्या है ?

1. वस्तुत चयन - अच्छी विकसित कंप्यूटर नेटवर्किंग प्रणाली की मदद से व्यावसायिक इकाई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काम कर सकती है


2. अच्छी ग्राहक सेवा - उपभोक्ताओं को वस्तुओं और सेवाओं को लेकर कई तरह की सेवाएं दी जाती है जैसे उत्पाद के बारे में जानकारी उपयोग हेतु दिशा निर्देश कीमत आदि


3. कम लागत - वाणिज्य की शुरुआत कम लागत में की जा सकती है


4. २४ × ७ - काम हमेशा चलता है इसमें किसी प्रकार की छुट्टी नहीं होती उपभोक्ता की ई वाणिज्य से कभी भी खरीदारी की जा सकती है



व्यापार की सहायक क्रिया कौन कौन सी है?

1. परिवहन - मनुष्य तथा माल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने वाले माध्यम को परिवहन कहते हैं I परिवहन व्यापार के लिए बहुत जरूरी है I


2. भंडारण - माल के बनने के समय से लेकर उसके बेचने के समय तक उसे सुरक्षित रखने के लिए भंडारण की जरूरत होती है I


3. बीमा - बीमा कंपनी व्यापारी को आग लगने, चोरी होने जैसे दुर्घटना से होने वाले नुकसान से बचाती है


4. विज्ञापन - उत्पादक विज्ञापन के माध्यम से अपने उत्पाद के बारे में जानकारी देता है और जिससे उपभोक्ताओं को उत्पाद खरीदने की इच्छा होती है I


5. बैंकिंग: अब हम बैंकों के बिना व्यापार के बारे में सोच भी नहीं सकते। व्यवसाय शुरू करने के लिए या इसे सुचारू रूप से चलाने के लिए हमें धन की आवश्यकता होती है। बैंक पैसे देता हैं



परिवहन के कितने प्रकार हैं ? कौन से ?

परिवहन के तीन प्रकार है -


1. भूमि परिवहन - सड़क, रेल


2. वायु परिवहन - वायुयान


3. जल परिवहन - नाव , जहाज



परंपरागत व्यवसाय तथा ई -व्यवसाय में क्या अंतर है ?

1. स्थापना परंपरागत व्यवसाय की स्थापना मुश्किल होती है जबकि व्यवसाय को आसानी से स्थापित किया जा सकता है

2. स्थापना की लागत परंपरागत व्यवसाय में पूंजी ज्यादा लगती है

3. शारीरिक उपस्थिति परंपरागत व्यवसाय में पूरी तरह शारीरिक उपस्थिति होनी जरूरी है जबकि इ व्यवसाय के लिए शारीरिक उपस्थिति जरूरी नहीं

4. समय अवधि परंपरागत व्यवसाय में कार्य का समय निश्चित होता है जबकि इ व्यवसाय का कार्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यम इंटरनेट की सहायता से २४ घंटे इ व्यवसाय का कार्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यम इंटरनेट की सहायता से २४ घंटे चलाई जा सकती है I


Related Posts

Post a Comment